Notice: Undefined index: id in /home5/parkhya/public_html/sewagathamarathifinal/header.php on line 34
Sewagatha

सपनों का एक गांव - रविंद्रनगर (मियांपुर) उत्तरप्रदेश | एक अहर्निश सेवायात्रा- दामोदर गणेश बापट जी | अंधकार में डूबे लोंगो को थमाई रोशनी की मशाल (उड़ीसा)’ |

सेवागाथा - राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के सेवाविभाग की नई वेबसाइट

परिवर्तन यात्रा

हरा भरा सुंदर गांव रविंद्रनगर

सपनों का एक गांव - रविंद्रनगर (मियांपुर) उत्तरप्रदेश

प्रदीप कुमार पाण्डेय

यह कहानी है प्रकृति व मानव की मित्रता की । 1947  में विभाजन की पीड़ा सहकर अपना सबकुछ खोकर शरणार्थी  बनकर आए बंगाली परिवारों के पुरूषार्थ की, जिन्होंने अपने परिश्रम से बालू की टीलों को लहलहाते खेतों में तब्दील कर दिया।  गुरूदेव रविंद्रनाथ ठाकुर क

और जानिये

समर्पित जीवन

स्व. श्री दामोदर गणेश बापट जी 29-4-1935 से 17-8-2019

एक अहर्निश सेवायात्री- दामोदर गणेश बापट

विजयलक्ष्मी सिंह

न तो वे कुष्ठ रोगी थे न ही उन्होंने किसी अपने को देह गला कर, हाथ पैर ठूंठ कर देने वाली इस भयानक बीमारी से जूझते देखा था। फिर भी जीवन के 46 वर्ष एक स्वस्थ व्यक्ति ने उन कुष्ठ रोगियों की सेवा में बिता दिए जिन्हें देख कर लोग घृणा से मुंह फेर लेते थे। क्या मा

और जानिये

सेवादूत

अंधकार में डूबे लोंगो को थमाई रोशनी की मशाल (उड़ीसा)

विजयलक्ष्‍मी सिंह

फैनी का इटालियन भाषा में अर्थ होता है  मुक्त !  200 कि.मी प्रतिघंटे से भी अधिक गति की इन बेलगाम हवाओं ने उडीसा में जो कहर बरपाया है वो हम सब की कल्पना से भी परे है। कटक, भुवनेश्वर, खुर्दा, पुरी समेत, पांच जिलों के अधिकांश कस्बे अंधेरे में डूब गए है।एक लाख 56 हजार बिजली के पोल उखड़ गए हैं . डेढ़ करोड़ से अधिक  नारियल के पेड़ इन तेज हवाओं से तहस-नहस हो गए हैं ।,  गांव के गरीब किसानो के पास न खेती बची न घर। 64 लोगों व 65,000 मवेशियों को ये भयावह चक्रवात लील गया।बिना छत के मकानों में अपना सबकुछ गंवा बैठे लोगों को सहारा देने सबसे पहले पहुंचे संघ के स्वयंसेवक।

s4.jpg